Credit Card Meaning In Hindi | क्रेडिट कार्ड क्या है?

Credit Card Meaning In Hindi: क्या आप भी एक क्रेडिट कार्ड लेने की सोच रहे है, और जानना चाहते है की क्रेडिट कार्ड क्या होता है, तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए क्युकी इस पोस्ट में क्रेडिट कार्ड से संबंधित उन सभी कारकों ओर चर्चा की गई है जो आपके लिए जानना अति आवश्यक है।

एक क्रेडिट कार्ड क्या होता है? (Credit Card Meaning In Hindi)

क्रेडिट कार्ड (Credit Card) एक बैंक या वित्तीय सेवा कंपनी द्वारा जारी प्लास्टिक का एक कार्ड है, जो कार्डधारकों को धन उधार लेने में काम आता है। क्रेडिट कार्ड का उपयोग आप सामान और सेवाओं के भुगतान के लिए कर सकते है। क्रेडिट कार्ड यह शर्त लगाते हैं कि कार्डधारक उधार ली गई धनराशि, लागू ब्याज, साथ ही किसी भी अतिरिक्त सहमत-शुल्क का भुगतान बिलिंग तिथि के साथ पूरी तरह से कर देते हैं।

क्रेडिट कार्ड सभी उम्र के उपभोक्ताओं के लिए उपलब्ध सबसे प्रभावी वित्तीय भुगतान उपकरणों में से एक है। बिलिंग चक्र की समाप्ति के बाद, आपके पास बिना ब्याज के पैसे का भुगतान करने के लिए 21 से 30 दिनों के बीच की छूट अवधि होती है। उसके बाद, आप अपने कार्ड के आधार पर ब्याज अर्जित कर सकते हैं (जब तक कि आपका कार्ड कुछ समय के लिए 0% ब्याज प्रचार दर प्रदान नहीं करता)। क्रेडिट कार्डधारकों से उधार ली गई राशि पर ब्याज लगाया जाएगा और शेष राशि का भुगतान होने तक (कम से कम) न्यूनतम मासिक भुगतान करने की अपेक्षा की जाएगी।

यह भी पढे:

क्रेडिट कार्ड कैसे काम करते हैं? (How credit cards work)

  • क्रेडिट कार्ड प्लास्टिक या धातु के आयताकार टुकड़े होते हैं जिनका उपयोग चेकआउट के समय कार्ड रीडर में स्वाइप, टैप या डालने से नई खरीदारी के लिए किया जा सकता है। साथ ही कई कार्ड आपको बैलेंस ट्रांसफर को पूरा करने की अनुमति देते हैं, जो कर्ज से बाहर निकलने का अवसर प्रदान करते हैं।
  • जब आप क्रेडिट कार्ड लेते है, तो आपको एक क्रेडिट सीमा प्राप्त होती है जो कुछ हजार रुपए से लेकेर लाख रुपए तक हो सकती है। यह क्रेडिट सीमा आपके क्रेडिट प्रोफाइल पर निर्भर करती है। आप उस सीमा तक खर्च करने में सक्षम होंगे।
  • जब आप अपने कार्ड से खरीदारी करते हैं, तो यह आपके खाते में लंबित के रूप में दिखाई देगा और कुछ ही दिनों में पोस्ट हो जाएगा। एक बार लेन-देन आपके खाते में पोस्ट हो जाने के बाद, आपकी कुल शेष राशि बढ़ जाएगी।
  • अपने कार्ड जारीकर्ता से हर महीने एक बिल प्राप्त करने की अपेक्षा करें जिसमें आपके बिलिंग चक्र के दौरान आपके द्वारा की गई सभी पोस्ट की गई खरीदारी शामिल हो। अपने खाते को अच्छी स्थिति में रखने के लिए, आपको अपनी तय तारीख तक कम से कम न्यूनतम राशि का भुगतान करना होगा।
  • अधिकांश कार्ड छूट अवधि प्रदान करते हैं, जो आपको बिलिंग चक्र के अंत से कम से कम 21 दिनों के लिए ब्याज मुक्त शेष राशि का भुगतान करने की अनुमति देते हैं। छूट की अवधि के बाद किसी भी शेष राशि पर ब्याज लगेगा, इसलिए हम अनुशंसा करते हैं कि आप हमेशा पूरा भुगतान करें।

क्रेडिट कार्ड के प्रकार (Types of credit cards)

वैसे तो क्रेडिट कार्ड विभिन्न प्रकार के होते होते है उन्मे से कुछ क्रेडिट कार्ड के प्रकार नीचे दिए है:

  • बैलेंस ट्रांसफर क्रेडिट कार्ड: बैलेंस ट्रांसफर क्रेडिट कार्ड एक प्रारंभिक ब्याज दर के साथ आता है और अक्सर, बैलेंस क्रेडिट कार्ड ट्रांसफर पर कम शुल्क होता है।
  • रिवॉर्ड कार्ड: अगर आप अपनी सभी खरीदारी पर कैश बैक, पॉइंट या मील कमाना चाहते हैं, तो रिवॉर्ड कार्ड एक बढ़िया विकल्प हैं। आप आम तौर पर जो कुछ भी खरीदते हैं उस पर आप कम से कम 1% या 1X वापस कमाएंगे, और सबसे अच्छे कार्ड चार बार भोजन वितरण और किराने के सामान से लेकर गैस और यात्रा तक की खरीदारी पर चार गुना प्रदान करते हैं।
  • सिक्योर्ड कार्ड्स: खराब क्रेडिट वाले लोगों के लिए सबसे अच्छे विकल्पों में से एक सिक्योर्ड कार्ड क्रेडिट कार्ड है। ये कार्ड एक नियमित, असुरक्षित कार्ड की तरह काम करते हैं, लेकिन क्रेडिट सीमा प्राप्त करने के लिए आपको कुछ राशि जमा करने की आवश्यकता होती है। जमा की गई राशि का 90% तक आप उपयोग कर सकते है। उदाहरण: मान लीजिए आपने आईसीआईसीआई बैंक क्रेडिट कार्ड लेना चाहते है परंतु आपका क्रेडट स्कोर खराब है, तो आप बैंक में 1 लाख रुपए का फिक्स डेपोसीटे करके उसके बदले क्रेडिट कार्ड ले सकते है। इस क्रेडिट कार्ड की सीमा 90,000 तक हो सकती है।
  • व्यवसाय कार्ड: व्यवसाय के मालिक सामान्य व्यावसायिक खर्चों, जैसे शिपिंग और यात्रा, के साथ-साथ परिचय 0% APR अवधि के लिए तैयार किए गए पुरस्कारों के साथ कार्ड खोलने से लाभ उठा सकते हैं। साथ ही ये कार्ड आपको कर्मचारी कार्ड खोलने की अनुमति देते हैं, जो खर्चों को सुव्यवस्थित करता है।
  • प्रीमियम क्रेडिट कार्ड: एक प्रीमियम क्रेडिट कार्ड अनेक लाभों की पेशकश कर सकता है जो आप सामान्य क्रेडिट कार्ड में नहीं देख सकते। इनमे विशेष कार्यक्रम, concierge सेवाएं, हवाई अड्डे के लाउंज तक पहुंच, अतिरिक्त बीमा कवरेज और रीटेल जैसी चीजें शामिल हैं। प्रीमियम क्रेडिट कार्ड अक्सर उच्च वार्षिक शुल्क के साथ आते हैं।

सामान्य क्रेडिट कार्ड शर्तें (Common credit card terms)

क्रेडिट कार्ड दर्जनों शर्तों के साथ आते हैं जो की नीचे निम्नलिखित दिए गए है:

  • वार्षिक शुल्क: क्रेडिट कार्ड रखने के लिए कार्डधारकों से से हर साल शुल्क लिया जाता है। कुछ क्रेडिट कार्ड लाइफ्टाइम फ्री ऑफर के साथ भी आते है जिसमे कोई शुल्क नहीं देना होता।
  • नकद अग्रिम शुल्क: यदि आप क्रेडिट कार्ड से नकद राशि निकलते है तो आपसे शुल्क लिया जाता है, यह शुल्क आमतौर पर 5% हो सकता है या फिक्स भी हो सकता है।
  • नकद अग्रिम एपीआर: यदि आप नकद अग्रिम लेते हैं, तो आप पर लगने वाली ब्याज दर, जो अक्सर आपके द्वारा लिए जाने वाले उच्चतम एपीआर में से एक होती है।
  • बैलेंस ट्रांसफर शुल्क: एक कार्ड से दूसरे कार्ड में कर्ज ट्रांसफर करने पर आपको प्रति ट्रांसफर 3% से 5% तक शुल्क देना पड़ सकता है।
  • बैलेंस ट्रांसफर एपीआर: बैलेंस ट्रांसफर के लिए ब्याज दर, जो खरीद एपीआर के बराबर या उससे अधिक हो सकती है।
  • देर से भुगतान शुल्क: जब आप अपने क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान देर से करते हैं, तो आपको आपके कार्ड के बिल के अतिरिक शुल्क देना होगा।
  • विदेशी लेनदेन शुल्क: भारत के बाहर की गई खरीदारी पर प्रति लेनदेन शुल्क लग सकता है।

क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड के बीच अंतर (Differences between Credit Cards and Debit Cards)

क्रेडिट कार्ड (Credit Card) डेबिट कार्ड (Debit Card)
कार्ड क्रेडिट एक सीमा प्रदान करता है जो एक मिनी लोन की तरह कार्य करता है, जिसका अर्थ है कि आप अपने चालू खाते में राशि तक सीमित नहीं हैं। यदि आपका बिल प्राप्त होने पर खर्च की गई पूरी राशि का भुगतान नहीं किया जाता है, तो आपसे बकाया राशि पर ब्याज लिया जाएगा।दडेबिट कार्ड तुरंत भुगतान काट देता है, केवल आपको अपने चालू खाते में धनराशि निकालने की अनुमति देता है। हालांकि इसमें कर्ज में डूबने का जोखिम कम होता है, खासकर यदि आपके पास ओवरड्राफ्ट नहीं है, तो यह आपके वित्तीय लचीलेपन को भी सीमित करता है।

क्रेडिट कार्ड का उपयोग क्यों करें? (Why use a credit card)

क्रेडिट कार्ड (Credit Card) कार्डधारकों के लिए कई लाभ प्रदान करते हैं जो की नीचे दिए गए है:

  • हर भुगतान के साथ रिवॉर्ड पॉइंट।
  • विशेष सदस्यता पुरस्कारवित्तीय लचीलापन।
  • यात्रा लाभ।
  • समान मासिक किश्तों (ईएमआई) का उपयोग करने का विकल्प।
  • क्रेडिट कार्ड सुरक्षा।
  • क्रेडिट स्कोर बनाने के लिए क्रेडिट कार्ड का उपयोग करें। अपना क्रेडिट स्कोर चेक करने के लिए यहाँ क्लिक करे।,

FAQs (पूछे जाने वाले प्रश्न)

1. क्रेडिट कार्ड का उद्देश्य क्या है?

क्रेडिट कार्ड बैंक या वित्तीय संस्थानों द्वारा जारी प्लास्टिक या धातु का एक पतला आयताकार कार्ड है, जो आपको अपनी खरीदारी के भुगतान के लिए पूर्व-अनुमोदित सीमा से धन उधार लेने देता है। आपके क्रेडिट स्कोर, मासिक आय, प्रोफाइल आदि के आधार पर क्रेडिट कार्ड की सीमा तय की जाती है।

2. क्रेडिट कार्ड के लिए आयु सीमा क्या है?

क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने के लिए आपकी आयु न्यूनतम 18 वर्ष होनी चाहिए।

3. क्या हाउस वाइफ को क्रेडिट कार्ड मिल सकता है?

हां, हाउस वाइफ को क्रेडिट कार्ड मिल सकता है। उनके पास बैंक में एक सावधि जमा भी हो सकता है जिसके माध्यम से वे बैंक के साथ क्रेडिट कार्ड के लिए आसानी से आवेदन कर सकते हैं।

4. मैं अपने क्रेडिट कार्ड की सीमा कैसे जान सकता हूँ?

आपके बिलिंग विवरण की हाल की एक कॉपी में आपकी क्रेडिट सीमा, वर्तमान क्रेडिट कार्ड की शेष राशि और आपका उपलब्ध क्रेडिट शामिल होगा। आप इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से भी अपनी क्रेडट कार्ड की सीमा देख सकते सकते है।

5. क्रेडिट लिमिट मासिक है या सालाना?

आपकी क्रेडिट सीमा और कार्ड की शेष राशि की सूचना हर महीने क्रेडिट ब्यूरो को दी जाती है। इस जानकारी का उपयोग आपके क्रेडिट उपयोग की गणना के लिए किया जाता है, जो आपकी उपयोग की जा रही क्रेडिट सीमा की मात्रा को मापता है।

Leave a Comment