Short Term Loan क्या है और कैसे मिलता है?

नसकार दोस्तों, क्या आपने कभी Short term loan के बारे मे सुना है? क्या होगा अगर आपको अचानक से तत्काल नकद पैसों की जरूरत आ गई है और आपकी कोई मदद करने को तैयार नहीं है, तो ऐसे स्तिथि मे आप क्या करेंगे? मेरे पास आपके लिए बहुत ही अच्छा विकल्प है।

आज मे आपको शॉर्ट-टर्म लोन के बारे मे बताने वाला हूँ जो की कुछ ही घंटों मे आपकी पैसों की दिक्कत को दूर करने मे सहायक है। यह एक नया लोन विकल्प आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। Short term loan लोन एक तरह से पर्सनल लोन की तरह ही है पर इसे चुकाने की अवधि पर्सनल लोन से काफी काम होती है और यह आसानी से और जल्दी मिल जाता है। Short term loan बहुत ही काम दस्तावेजों के साथ आसानी से प्राप्त हो जाता है और इसके लिए बैंक के चक्कर भी नहीं लगाने पड़ते क्योंकि यह लोन अनलाइन के जरिए दिया जाता है। ये इंस्टेंट लोन आपकी तत्काल नकद पैसों की दिक्कत को दूर सकता है जिससे आपकी ज़िंदगी बेहद आसान हो सकती है।

यह भी पढे: HDFC bike loan कैसे ले? विशेषताएं और ब्याज दर

शॉर्ट-टर्म लोन किसे कहते है?

शॉर्ट-टर्म लोन लोन 1 साल या उससे कम समय के लिए लिए दिया जाता है। इस लोन को कुछ घंटों मे या एक से दो दिन के अंदर मंजूरी दे दी जाती है। अचानक से आ जाने वाले खर्चे जैसे बीमारी मे इलाज का खर्च, बिजनस मे अचानक से पैसा लगाना हो, या शादी से पहले की खरीदारी करनी हो या और कोई बड़ी खरीदारी करनी हो, या कोई प्रॉपर्टी खरीद के बेचना हो, इन सब जरूरतों मे इस तरह का लोन लिया जा सकता है। परंतु इस तरह के लोन मे पर्सनल लोन से अधिक ब्याज दर चुकाने के लिए आपको तैयार रहना होगा।

Short Term Loan कितने प्रकार के होते है?

जैसा कि हम समझ चुके हैं, हमें शॉर्ट टर्म फाइनेंस की आवश्यकता क्यों है, शॉर्ट टर्म फाइनेंस के विभिन्न स्रोत हैं। प्रत्येक प्रकार के शॉर्ट टर्म फाइनेंस की अलग-अलग विशेषताएं होती हैं और इसका उपयोग विभिन्न स्थितियों में किया जा सकता है। उनमें से कुछ को नीचे समझाया गया है:

1. व्यापार लोन: यह अस्थायी समय है जो व्यापार को उन वस्तुओं या सेवाओं के लिए भुगतान करने की अनुमति देता है जिन्हें उन्होंने खरीदा है। यह व्यापार को अपने नकदी प्रवाह को अधिक कुशलता से प्रबंधित करने में मदद करता है और उनके Finance से जुड़ी दिक्कत से निपटने में मदद करता है। ट्रेड क्रेडिट इन्वेंट्री के financing का एक अच्छा तरीका है जिसका अर्थ है कि विक्रेता को उसके भुगतान के देय होने से पहले कितने दिनों की अनुमति दी जाएगी। विक्रेता द्वारा बिजनस-लोन की पेशकश बिजनस को जारी रखने के लिए एक प्रलोभन के रूप में की जाती है और इसीलिए इसमें कुछ भी खर्च नहीं होता है।

2. कार्यशील पूंजी लोन: बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों से Short Term Loanप्राप्त किया जा सकता है। बैंक इन लोन को बिजनेस, उसके कार्यशील पूंजी चक्र, पिछले ट्रैक रिकॉर्ड आदि के आधार पर देते हैं। एक बार लोन लेने के बाद, इन लोन को या तो छोटी किश्तों में चुकाया जाता है या अवधि के अंत में पूरा भुगतान किया जा सकता है। यह लोन की शर्तों पर निर्भर करता है। स्थायी कार्यशील पूंजी जरूरतों के financing के लिए इन लोन का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। अस्थायी कार्यशील पूंजी की जरूरतों को पूरा करने के लिए यह एक अच्छा विकल्प हैं।

3. बिल में छूट: इसका मतलब उन चालानों को जमा करने के विरुद्ध धन की व्यवस्था करना है जिनका भुगतान निकट भविष्य में प्राप्त किया जाना है। प्राप्य चालानों में बैंकों, वित्तीय संस्थानों या किसी तीसरे पक्ष के साथ छूट दी जाती है। बिल जमा करने पर, वे बिलों के रियायती मूल्य का भुगतान करेंगे और नियत तिथि पर, वे व्यवसाय की ओर से भुगतान एकत्र करेंगे।

4. फैक्टरिंग: यह वित्त (Finance) की एक समान व्यवस्था है जैसे चालान छूट। यह देनदार वित्त (Finance) है जिसमें व्यवसाय अपने प्राप्य खातों को किसी तीसरे पक्ष को बेचता है जिसे हम कारक कहते हैं जो कि वसूली योग्य मूल्य से कम है। यह किसी भी प्रकार का सहारा के साथ या बिना सहारा के हो सकता है, चालान छूट के विपरीत जो केवल सहारा के साथ हो सकता है।

5. बिजनेस लाइन ऑफ क्रेडिट: Short Term Finance, अस्थायी कार्यशील पूंजी या तत्काल नकदी की जरूरतों के लिए सबसे अच्छा उपाय है। इस प्रकार के financing में एक राशि को बैंक या वित्तीय संस्थान द्वारा मजूरी दी जाती है। इस राशि की सीमा के भीतर, बिजनेस भुगतान कर सकता है और ग्राहकों से भुगतान प्राप्त होने के बाद जमा करना जारी रख सकता है। यह एक रिवॉल्विंग क्रेडिट की तरह काम करता है और इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि ब्याज केवल उपयोग की गई राशि पर लगाया जाता है न कि ली गई राशि पर। ब्याज दर को बचाने के लिए बिजनेस में अप्रयुक्त राशि जमा करने की सुविधा है। इस तरह से यह बहुत ही बेहतरीन विकल्प हो जाता है।

शॉर्ट-टर्म लोन मे ब्याज दर कितना होता है?

शॉर्ट टर्म फाइनेंस बिना किसी गारंटी के और कुछ ही घंटों मे मिल जाता है और पर्सनल लोन की तुलना मे इसमे अधिक सुविधा भी मिलती है। इस वजह से इसमे अधिक ब्याज दर देना पड़ता है। शॉर्ट टर्म फाइनेंस मे ब्याज दर 12% से 22% तक हो सकता है। इसमे एक फीस भी लगती है जो आपको एक बार देना पड़ता है। अलग-अलग कॉम्पनियों के प्रोसेसिंग फीस अलग-अलग हो सकते है। कुछ कॉम्पनिया पर्सनल लोन की तुलना मे काम चार्जेस ले सकती है और पर्सनल लोन मे ब्याज दर भी शॉर्ट टर्म फाइनेंस की तुलना मे काम होता है। आपअच्छे से सोच समझ के विकल्प चुने की आपको कौनसा लोन लेना चाहिए।

Short Term Loan का भुगतान करने की अवधि कितनी होती है?

शॉर्ट टर्म फाइनेंस आपको सिर्फ 15 दिनों के लिए भी आसानी से मिल जाता है और शॉर्ट टर्म होने के कारण लोन के भुगतान करनी की अवधि 6 महीने से ज्यादा नहीं होगी। इसके विपरीत पर्सनल लोन के भुगतान करने की अवधि कम से कम 6 महीने की होती ही उससे पहले आप लोन का पूरा भुगतान नहीं कर सकते।

Short Term Loan लेने के लिए एलिजिबिलिटी क्या है?

शॉर्ट-टर्म लोन पाने के लिए निम्नलिखित मानदंडों का पालन करना जरूरी है

  • आयु: आपकी एलिजिबिलिटी और लोन भुगतान करने की क्षमता जानने के लिए उम्र एक अहम भूमिका निभाती है। शॉर्ट टर्म फाइनेंस के लिए आपकी उम्र कम से कम 21 वर्ष और अधिकतम 65 वर्ष होनी चाहिए।
  • पेशा: आपके पास एक जॉब या तो आपका खुदका कोई बिजनस होना चाहिए।
  • स्थिर आय: कोई भी लोन लेने के लिए आपकी आय के आधार पर आपकी एलिजिबिलिटी की गणना की जाती है इसलिए शॉर्ट टर्म फाइनेंस के लिए आपके पास आय का सोर्स होना चाहिए।

शॉर्ट-टर्म लोन के लाभ

  • कम ब्याज दर: चूंकि Short Term Loan को एक वर्ष के भीतर बहुत ही कम अवधि में चुकाया जाना है, इसलिए ब्याज लागत की कुल राशि लंबी अवधि के लोन की तुलना में कम से कम होगी, जिन्हें भुगतान में कई साल लगते हैं।
  • online प्रोसेस: इस लोन के लिए आपको बैंक के चक्कर काटने की कोई आवश्यकता नहीं है, यह लोन online के जरिए आसानी से घर बेठे मिल जाता है।
  • कम दस्तावेज: इसके लिए आवश्यक दस्तावेज़ भी बहुत कम होते है। इसलिए हर कोई इस लोन को आसानी से ले सकता है।
  • झटपट लोन: शॉर्ट-टर्म लोन मे एक या दो दिन मे लोन को मंजूरी दे दी जाती है।

Short Term Loan के नुकसान

शॉर्ट-टर्म लोन एक साल या उससे कम अवधि के लिए मिलता है जिससे लोन की मासिक किस्त बहुत अधिक हो जाती है, परिणामस्वरूप लोन की चुकौती में चूक की संभावना बढ़ जाती है और अगर ऐसा होता है तो आपका क्रेडिट स्कोर खराब हो सकता है। अगर आप अपना केडिट स्कोर चेक करना चाहते है तो यहाँ क्लिक करे।

निष्कर्ष

शॉर्ट-टर्म लोन न केवल बिजनस करने वालों व्यक्तियों के लिए बल्कि सामान्य व्यक्तियों के लिए भी बहुत उपयोगी हैं। बिजनस के लिए, यह अचानक आई पैसों की समस्या को दूर करता है और साथ ही अचानक आई कोई बड़ी बीमारी या कोई बड़ी खरीदारी के लिए पैसों की जरूरत को पूरा करता है। Short term loan मे आपको बहुत सारी सुविधाये मिलती है परंतु किस्त का भुगतान न करने के परिणाम बहुत खतरनाक हो सकते हैं क्योंकि यह न केवल क्रेडिट स्कोर को खराब करेगा बल्कि वित्तीय बोझ और दिन-प्रतिदिन के बिजनस संचालन में दिक्कत पैदा कर सकता है। इसलिए अच्छे से सोच समझ कर ही लोन ले।

FAQs (पूछे जाने वाले प्रश्न)

2. क्या शॉर्ट-टर्म लोन के लिए किसी संपार्श्विक की आवश्यकता है?

नहीं, आम तौर पर कोई संपार्श्विक नहीं होता है जिसे लोन राशि के लिए सुरक्षा के रूप में प्रदान करने की आवश्यकता होती है।

2. शॉर्ट-टर्म लोन के लिए दी जाने वाली लोन राशि क्या है?

लोन राशि केवल 5,000 रुपये से शुरू होती है और 3 लाख रुपये तक बढ़ सकती है।

3. शॉर्ट टर्म लोन की अवधि क्या है?

चुकौती अवधि जिसे 1 महीने से 12 महीने (1 वर्ष) के बीच चुना जा सकता है।

Leave a Comment